Bjj
why india lost the gold medal match against australia in cwg 2022 birmingham
harmanpreet kaur (cricket australia twitter)

भारतीय महिला टीम को रविवार को कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों नौ रन की हार मिली। भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को पहले 8 विकेट पर 161 के स्कोर पर रोक लिया लेकिन इसके बाद वह 19.3 ओवरों में 152 रन पर ऑल आउट हो गई। इसके साथ ही पहली बार कॉमनवेल्थ गेम्स में शामिल किए गए महिला क्रिकेट में भारत को रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

पहले गेंदबाजों का कमाल का प्रदर्शन

हरमनप्रीत कौर की कप्तानी वाली टीम ने ऑस्ट्रेलिया को आखिरी पांच ओवरों में उसने सिर्फ 36 रन बनाने दिए और उसके पांच विकेट हासिल किए। तो वह ऑस्ट्रेलियाई टीम जो एक समय पर 180 के स्कोर से आगे जाती दिख रही थी वह 161 तक ही पहुंच सकी।

भारत की खराब शुरुआत

भारत ने पहले ओवर में 12 रन बनाकर रफ्तार पकड़ी। लेकिन पिछले मैच की स्टार रहीं स्मृति मंधना सिर्फ 6 रन बनाकर बोल्ड हो गईं। मंधना ने ऑफ स्टंप पर क्रॉस जाकर गेंद को फाइन लेग पर खेलना चाहा लेकिन वह पूरी तरह चूक गईं और लेग स्टंप गंवा बैठीं। इसके बाद शेफाली वर्मा भी लय में नहीं दिखीं। गार्डनर की गेंद पर उन्हें एक जीवनदान मिला लेकिन इसी ओवर में दोबारा बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में वह 11 रन बनाकर आउट हो गईं।

मुश्किल में भारत कप्तान और जैमिमा ने संभाला

भारतीय पारी 2.4 ओवर में 22 रन पर दोनों सलामी बल्लेबाजों को गंवा चुकी थी।

ऐसे में जैमिमा रोड्रिक्स के साथ कप्तान हरमनप्रीत कौर ने पारी को संभालने का काम किया। दोनों ने मिलकर तीसरे विकेट के लिए 96 रन जोड़े। यह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 इंटरनैशनल में किसी भी भारतीय जोड़ी की ओर से सबसे बड़ी साझेदारी थी। जैमिमा जहां एक-दो रन से पारी को आगे ले जा रही थीं वह हरमनप्रीत कंगारू टीम के लिए असली खतरा बनी हुईँ थी। वह लगातार बड़े शॉट खेलकर रनगति को नियंत्रण में रखती रहीं।

हरमनप्रीत ने हाफ सेंचुरी पूरी की और कंगारू खेमे में अब हड़बड़ी नजर आने लगी। इस साझेदारी को तोड़ना उनके लिए बहुत जरूरी था। और ऐसा हुआ भी। जैमिमा रोड्रिक्स 33 गेंद पर 33 रन बनाकर मेगन शूट की गेंद पर बोल्ड हो गईं। भारत को आखिरी छह ओवरों में पचास रन चाहिए थे।

फिर पलटनी शुरू हुई बाजी

रोड्रिक्स ने 15वें ओवर की पहली गेंद पर चौका लगाया। अगली गेंद पर रोड्रिक्स ने दो रन लिए। लेकिन यहीं वह खुद पर काबू नहीं रख पाईं और विकेट छोड़कर मारने के प्रयास में बोल्ड हो गईं। भारत को तीसरा झटका 118 के स्कोर पर लगा।

बाजी अभी पलटी नहीं थी, क्रीज पर हरमनप्रीत कौर थीं और भारत की उम्मीदें भी। अगले ओवर में पूजा वस्त्राकार भी आउट हो गईं। वस्त्राकार को इस टूर्नमेंट में ज्यादा मौके नहीं मिले थे और यहां नजर आया कि वह टच में नहीं हैं। पांच गेंद पर एक रन बनाकर वह आउट हो गईं।

और फिर हरमनप्रीत कौर आउट

अगली ही गेंद पर भारतीय उम्मीदों को सबसे बड़ा झटका लगा। कप्तान हरमनप्रीत कौर 43 गेंद पर सात चौकों और दो छक्कों के साथ 65 रन बनाकर पविलियन लौट गईं। उन्होंने गार्डनर की गेंद को टैप करना चाहा। गेंद उनके बल्ले से लगकर हेलमेट से लगी। विकेटकीपर एलीसा हीली ने सतर्कता और चपलता दिखाई और अपने दाएं ओर दौड़ते हुए छलांग लगाकर गेंद को लपक लिया।

फिर हड़बड़ी मच गई

साल 2017 का 50 ओवर वर्ल्ड कप फाइनल हो या फिर 2020 में टी20 वर्ल्ड कप फाइनल। भारतीय टीम अहम मौकों पर आकर फंस जाती है। यहां भी वैसा ही दिखा। पूरे टूर्नमेंट में भारत ने प्रभावी क्रिकेट खेला लेकिन ऑस्ट्रेलिया की आक्रामकता के सामने टीम फंसती नजर आई।

ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय बल्लेबाजों के लिए रन बनाने मुश्किल कर दिए। भारत के लिए रिक्वायर रन-रेट बढ़ती गई। दीप्ति शर्मा ने कैमियो खेलकर भारतीय उम्मीदों को जिंदा रखा। लेकिन जब 19वें ओवर में वह 13 रन बनाकर लौटीं तो भारत के लिए अब चमत्कार बचा था।

आखिरी ओवर में भारत ने दो विकेट खोए। मेघना सिंह रन आउट हुईं तो विकेटकीपर तान्या भाटिया की जगह कनकशन पर उतरीं यास्तिका भाटिया 2 बनाकर आउट होने वालीं आखिरी खिलाड़ी रहीं।

कुल मिलाकर भारत ने 30 गेंद पर 34 रन बनाकर 8 विकेट खोए। और यही भारत की हार का सबसे बड़ा कारण बना।

Nj